मेरे पति इस मंदिर के देवता – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

उस अधिकारी के ऐसे घटिया वाहियात शब्द सुनकर भारती का खून खौल गया और उसने उन्हें बाहर का रास्ता दिखाते हुए कहा, सुनिए,यह मेरा घर एक मंदिर है और इस मंदिर के देवता मेरे पति हैं जिनकी पुजारन बन कर मैं उनकी पूजा करती हूं। भारती के पति के देहांत के बाद उनके एम डी … Read more

और पंछी उड़ गया – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

 रमा के घर सावित्री घरेलू काम करती थी। बहुत ही सीधी-सादी और सभी काम बड़े ही साफ सफाई से करती। रमा से उसने कभी कोई चीज की मांग नहीं की थी। अपने पति का हमेशा गुणगान करती रहती।  सावित्री और रमेश की जिंदगी बहुत ही बेहतरीन तरीके से चल रही थी। रमेश एक फैक्टरी में … Read more

पापा गुडबाय मत बोलो ना – सुषमा यादव   : Moral stories in hindi

मैं मेडिकल कॉलेज मैसूर से एम बी बी एस प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही थी। कुछ दिनों से मेरी रीढ़ की हड्डी में बहुत दर्द हो रहा था। मैंने अपनी मम्मी को बताया तो मम्मी और दीदी तुरंत ही दिल्ली से फ्लाइट में आ गईं। पापा को अवकाश नहीं मिला था। मम्मी और दीदी … Read more

मन का अन्तर्द्वन्द – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

एक एक करके शिवानी के परिवार ने अंतिम विदाई ले ली थी। पहले सास, फिर पति और अब ससुर जी ने भी। मायके में भी दो भाई, मां और अब पिता जी भी उसे छोड़ कर चले गए। इतना बड़ा घर। शिवानी को बहुत अकेलापन महसूस होता है।। नौकरी से भी रिटायर्ड हो गई है।। … Read more

मौसमी रिश्ते का हसीन हमसफ़र – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

मौसमी रिश्ते मौसम के जैसे होते हैं,, स्वार्थी, मतलबी,मजबूरी,या क्षणिक आवेश में,या किसी के प्रति आकर्षित होकर बनाये गये रिश्ते। ये खोखले होते हैं,, इनमें स्थायित्व नहीं होता,, जैसे,मौसम बदलते रहते हैं, वैसे ही ये रिश्ते भी बदलते रहते हैं,, ये प्रेम में ही नहीं,वरन, किसी भी रिश्ते में हो सकते हैं, परिवार, रिश्तेदारी में, … Read more

अभूतपूर्व बदलाव – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

अपने माता-पिता का परिचय कराने में शरम क्यों???? संदीप के माता-पिता गांव से हैं। संदीप की मां अशिक्षित और बिल्कुल देहाती रहन सहन वाली महिला है। पिता जी बारहवीं पास एक फैक्टरी में काम करते हैं। उन दोनों का जीवन बड़ी कठिनाईयों और संघर्षों में बीता। आर्थिक अभाव होते हुए भी उन्होंने संदीप को किसी … Read more

बारात बिना दुल्हन के आयेगी। – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

हमारी बेटी के लिए हमने एक रिश्ता देखा था। लड़के के पिता यहीं मध्यप्रदेश में अच्छी सरकारी पोस्ट में थे, पत्नी घरेलू गृहणी थी। उनके तीन बेटे और एक बेटी थी। बड़ा लड़का सुधीर इंजीनियर था,मंझला बेटा आर्मी में कैप्टन था, उससे छोटा इंदौर में एम बी ए कर रहा था। बेटी बिलासपुर में कोई … Read more

नारी जाति की सबसे बड़ी गाली – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

शिवानी की शादी बड़े धूम-धाम से उसी के ही गांव में हुई थी। शिवानी नौकरी करती थी,पर उसके पति राजेश अभी पढ़ाई कर रहे थे।दोनों अलग-अलग शहरों में रहते थे। सब कुछ बहुत ही बढ़िया चल रहा था। शिवानी की सास चाहती थी कि वो जल्दी से पोते को अपनी गोद में खिलाये,। राजेश उनका … Read more

वह कौन थी?? – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

मेरी दोनों बेटियां बोर्डिंग स्कूल नैनीताल में पढ़ने चली गईं थीं । बड़ी बेटी के बाद जब छोटी बेटी भी वहां पढ़ने चली गई तो  घर मानो काट खाने को दौड़ रहा हो,, मैं और ये नौकरी पर चले जाते, पर इनका अक्सर संभागीय दौरा होता था,, मैं जब स्कूल से घर आती, तो बच्चों … Read more

पापा मुझसे नफरत करते हैं – सुषमा यादव : Moral stories in hindi

बेटियां तो पापा की परी होती हैं,, ,,उनका अभिमान और गौरव होती हैं,, ,,, फिर ऐसा क्या था कि उसके पापा अपनी बेटियों को अभिशाप समझते थे,, उनसे नफ़रत करते थे,,, ,,, चलिए,,,मिलते हैं एक ऐसे ही पापा से,,, ,,, मेरी हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी हुई थी, दिल्ली में,, मुझे लगभग छः महीने तक नीचे झुकना … Read more

error: Content is Copyright protected !!