अटूट बंधन – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

दो गोरे चिट्टे भाई  बहन के बाद उसका जन्म हुआ था.. नर्स ने जैसे हीं दादी के हाथ में नवजात बच्ची को दिया, दादी लगभग चीख पड़ी.. ये हमारे खानदान की नही हो सकती है काली कलूटी…                           समय गुजरता गया.. उसका नाम मां ने कृष्णा रखा… पड़ोसी रिश्तेदार परिचित तीनों बच्चों को साथ देखते तो … Read more

तकरार – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

निशी के दरवाजे पर लोगों की भीड़ लगी थी… कॉलेज जाते समय तो सब कुछ सामान्य था पर अभी ये भीड़ कैसी… अनहोनी की आशंका से मन कांप उठा… थोड़ा पास जाने पर पड़ोस की रमा चाची ने बताया निशी का तीन साल का बेटा सीढ़ियों से गिर कर.. निशी रिल्स बनाने में व्यस्त थी … Read more

तनाव – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

मैं मणि मध्यम वर्गीय परिवार में पली बढ़ी लड़की.. बेफिक्र बिंदास हंसती खिलखिलाती.. कब मध्यम वर्गीय परिवार की  की हीं इकलौती बहु बनकर ससुराल आ गई पता हीं नहीं चला… मां की गोद से स्कूल कॉलेज का सफर तय करते करते ससुराल की देहरी पर सपनों के साथ कदम रख दिया… जैसे वक्त पंख लगा … Read more

#ऐसे शब्द सुनकर गुस्से से मेरा खून खौल उठा – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

झाड़ू पोंछा करने के लिए दस दिन से लगभग साठ की रधिया काकी को पुरानी काम वाली रखकर अपने गांव गई है गेहूं की फसल कटने के बाद आएगी.. साठ साल की बुजुर्ग काकी से काम करवाने में अपराध बोध और ग्लानि महसूस हो रही थी.. पर पुरानी काम वाली ने बताया एक घर  कर … Read more

धिक्कार – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

पैंसठ साल की झुनकी फुआ की आंखों से अनवरत आंसू बह रहे थे.. भतीजे के बेटे की शादी थी… कितना मन था शादी में जाने का…. पर उम्रदराज महिलाओं और पुरुषों को ना हीं घरवाले ना हीं रिश्तेदार चाहते हैं शादी में शामिल हो!! अखबार में मोबाइल में मातृदिवस और पितृदिवस छाया हुआ है पर … Read more

मां की ममता – वीणा सिंह  : Moral stories in hindi

आईसीयू के बाहर बैठे मनोहर बाबू उदास और चिंतित से महादेव का स्मरण कर रहे थे आंखों से आंसुओं की बरसात हो रही थी..                         इंसान जब हर तरह से निराश हताश हो जाता है तभी अपने ईष्ट देव को याद करता है.. ये मानव स्वभाव की प्रकृति होती है.. बेटी मान्या और बेटा मयंक को … Read more

औकात – वीणा सिंह  : Moral stories in hindi

 आराधना! बहुत प्यारा सा नाम उतनी हीं प्यारी सी सूरत और सीरत! पर किस्मत! पिता पीडब्ल्यूडी में किरानी थे! मां मिडिल स्कूल की शिक्षिका! मां के संस्कार और आदर्श बेटी में कूट कूट के भरे थे! छोटा भाई आयुष! बेहद प्यारा बच्चा था! भाई बहन में खूब प्यार था! आराधना के रिश्ते की बात एक … Read more

मां… – वीणा सिंह : Moral stories in hindi

छोटा सा शहर जो गांव की संस्कृति और आत्मा को जिंदा रखा था वहीं जन्म हुआ था शांभवी का.. दादा दादी चाचा चाची सब एक हीं घर में एक साथ रहते थे.. पिता मां भगवती के उपासक थे .. पहली संतान जब बेटी हुई तो नाम रखा शांभवी! बेहद शांत सहनशील और ठंडे स्वभाव की … Read more

समय चक्र – वीणा सिंह  : Moral stories in hindi

शीतल का मन आज बहुत व्यथित हो गया था सुबह से हीं.. पति ने बताया आशुतोष भाई नही रहे.. शीतल चालीस साल पहले बीते वक्त के आगोश मे डूब गई.. बाबूजी दो भाई थे.. बाबूजी बड़े थे और चाचा छोटे.. मेरे जन्म के बाद बहुत मन्नत और झाड़ फूंक के बाद भी मेरा कोई भाई … Read more

जीने का मकसद – वीणा कुमारी : Moral stories in hindi

बनारस स्टेशन के एक कोने में बैठ पार्वती काकी ज़ार ज़ार रोए जा रही थी कि तभी पवन की नजर उन पर पड़ी। वह पास जाकर पूछा– क्या हुआ काकी,क्यों इतना रोए जा रहे हो? कुछ खो गया का? रोते रोते ही काकी ने कहा – सब कुछ तो खो ही गया है बिटवा। जब … Read more

error: Content is Copyright protected !!